general knowledge rajasthan 2018 in hindi pdf

By | December 1, 2017

general knowledge rajasthan 2018 in hindi pdf Rajasthan GK In Hindi 2018 Study Material pdf Notes in Hindi English hindi online test rajasthan gk राजस्थान

प्रश्न 1 राजस्थान के प्रमुख सांस्कृतिक प्रदेशों का विस्तृत विवरण दीजिए।
उत्तर सांस्कृतिक प्रदेशों का सीमांकन भाषा, बोली, धर्म, रीति-रिवाज आदि सांस्कृतिक लक्षणों के आधार पर भौगोलिक सन्दर्भ में किया जाता है। इस दृष्टि से राजस्थान को मुख्यतया राजस्थानी भाषा तथा इसकी बोलियों के आधार पर ही सांस्कृतिक प्रदेशों में विभाजन किया जा सकता है दूसरा आधार रीति-रिवाज परम्पराएं हो सकती हैं राजस्थान को निम्नलिखित सांस्कृतिक प्रदेशों में विभाजित किया जा सकता हैः-
मारवाड़ सांस्कृतिक प्रदेश- इसकाविस्तार पश्चिमी राजस्थान में जोधपुर, नागौर, बीकानेर, बाड़मेर, जैसलमेर, जालौर, सिरोही तथा पाली में है। यहां मारवाड़ी बोली बोलते हैं। यह प्रदेश साहित्यिक दृष्टि से समृद्ध है यहां ओज, भक्ति, वीर, रस का भण्डार है। जैन साहित्य इस बोली की धरोहर है। साहित्यिक मारवाड़ी पिंगल कही जाती है। इसकी उप बोलियों में ढरकी पाली (गंगानगर) बीकानेरी, बागड़ी, खैराड़ी, गोड़वाड़ी देवड़ावाड़ी हैं।
मेवाड़ सांस्कृतिक प्रदेश-इसका विस्तारउदयपुर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़ में है जहां मेवाड़ी बोली का प्रचलन है। कवियों, चित्रकारों लेखकों के लिए प्रेरणा स्रोत वीरता शौर्य का प्रतीक रहा है। यहां की स्थापत्यकला की उत्कृष्टता विश्व प्रसिद्ध है। यहां पर मेवाड़ में सफेद अंगरखी सफेद धोती, लाल या केसरिया पगड़ी पहनकर गैरिये (गैर नृत्य करने वाले) होली पर गैर नृत्य करते हैं।
हाड़ौती सांस्कृतिक प्रदेश- इसकाविस्तार हाड़ौती एवं मालवी बोली क्षेत्रों में हैं। कोटा, बारां, बूंदी, झालावाड़, शाहपुरा (भीलवाड़ा) पूर्वी उदयपुर में हाड़ौती तथा झालावाड़, कोटा प्रतापगढ़ में मालवी बोली प्रचलित है।
मेवाती सांस्कृतिक प्रदेश-अलवर, भरतपुर,धौलपुर तथा पूर्वी करौली का वह क्षेत्र जहां लोग मेवाती एवं अहीरवाटी बोली बोलते हंै। यह प्राचीन काल में मत्स्य जनपद था। मेवाती प्रदेश संत लालदास, चरणदास, दया बाई, सहजो बाई, डूंगर सिंह, खक्के आदि संतों की रंगस्थली रहा है। अलवर भरतपुर का बम नृत्य यहां की पहचान है।
ढूंढाड़ सांस्कृतिक प्रदेश-जयपुर, टोंक,लावा, किशनगढ़ (अजमेर) अजमेर मेरवाड़ा का ढूंढाड़ी बोली वाला क्षेत्र इसमें सम्मिलित है। अजमेर मेरवाड़ा में मारवाड़ी-मेवाड़ी की मिश्रित बोली रागड़ी बोलते हंै। दादू पंथ का अधिकांश साहित्य इसी बोली में लिपिबद्ध है। तोरावाटी इसकी उप बोली है। जयपुर की गणगौर इस प्रदेश की पहचान है।
वागड़ सांस्कृतिक प्रदेश- इनमेंवागड़ी बोली के डूंगरपुर, बांसवाड़ा, तथा दक्षिण-पश्चिमी उदयपुर क्षेत्र सम्मिलित हैं। जनजातियों की लोक परम्पराओं की पहचान इस प्रदेश की विशिष्टता है। यहां पर सर्वाधिक भील रहते हैं। डूंगरपुर की हस्तशिल्प एवं वास्तुशिल्प दर्शनीय है।
शेखावाटी सांस्कृतिक प्रदेश- सीकर,झुंझुनूं तथा चुरू का शेखावाटी बोली वाला क्षेत्र इसमें सम्मिलित है। शेखावाटी बोली मारवाड़ी बोली की ही उप बोली है, लेकिन शेखावाटी की संस्कृति की अपनी विशिष्ट पहचान है। यहां की हवेलियों की अनोखी वास्तुकला एवं आकर्षक भित्ति चित्र क्षेत्र की पहचान हैं। शेखावाटी का चंग नृत्य गीदड़ नृत्य महत्वपूर्ण है।

प्रश्न2. राजस्थान के महत्वपूर्ण पुरातात्विक स्थलों के बारे में लिखिए।
उत्तर पुरातत्वके क्षेत्र में राजस्थान का महत्त्वपूर्ण स्थान है। यहां पाषाणकाल से उत्तर पाषाणकाल एवं ताम्रयुग एवं लौहयुग के पुरातात्विक स्थल मिले हैं जहां अनेक सभ्यताएं फली-फूली। पिछले दशकों में हुए उत्खनन कार्य में जो पुरातत्व स्थल मिले हैं, उनके विवरण निम्नानुसार हैं-
(1) दर-भरतपुरजिले में दर नामक स्थान से प्रारम्भिक पाषाणकाल के कुछ चित्रित शैलाश्रय प्राप्त हुए जिनमें मानवाकृति, व्याध्र, बारहसिंगा तथा सूर्य आदि का अंकन प्रमुख हैं।
(2) बागौर-भीलवाड़ाजिले में कोठारी नदी के किनारे अवस्थित पुरातात्विक स्थल बागौर में मध्यपाषाण सांस्कृतिक अवशेष मिले हैं जिनमें प्रस्तर उपकरण ताम्र उपकरण प्रमुख हैं। यहां के निवासी शिकार, कृषि एवं पशुपालन कार्य करते थे। बागौर भारत में पशुपालन का प्राचीनतम साक्ष्य उपलब्ध कराता है।
(3) गणेश्व-सीकरजिले में नीम का थाना के पास कान्ती के उद्गम पर स्थित ताम्रयुगीन सभ्यता का महत्वपूर्ण केन्द्र जो ताम्रयुगीन सभ्यता की जननी कहलाता है। यहां से ताम्र उपकरण, तीर, कुल्हाड़ी, चूड़ियां, मछली पकड़ने के कांटे, मृदभाण्ड प्राप्त हुए हैं।
(4) कालीबंगा-यहप्रसिद्धपुरातात्विक स्थल हनुमानगढ़ जिले में घग्घर नदी घाटी में स्थित है। कालीबंगा का शाब्दिक अर्थ-काली चूड़ियां हैं। यहां पूर्वकालीन हड़प्पा सभ्यता के अवशेष अति महत्वपूर्ण हैं। विश्व में जुते खेत का पहला प्रमाण है। हवन कुंड, कच्ची ईंटों के मकान, बर्तन मिले हैं सर्वप्रथम इसे प्रकाश मेें ए.घोष द्वारा लाया गया, बी.बी.लाल और बी.के. थापर की देखरेख में उत्खनन कार्य हुआ है।
(5) आहड़-उदयपुरके निकट आहड़ नदी के किनारे ताम्रवती नगरी, धूलकोट या आघाटपुर नाम से प्रसिद्ध आहड़ से ताम्र पाषाणकाल की सभ्यता के अवशेष-पत्थरों के मकान, ताम्र उपकरण, मुद्राएं, काले लाल मृद्भाण्ड चूल्हे आदि मिले हैं। आहड़वासी तांबा गलाना जानते थे। पशुपालन अर्थव्यवस्था का प्रमुख आधार था।
(6) गिलूण्ड-राजसंमदमें बनास नदी के तट पर स्थित नगर जहां ताम्र पाषाणकाल के आहड़ सभ्यता के अवशेष मिले हैं। प्रस्तर सामग्री अधिक मात्रा में पाई गई। यहां मृद्पात्रों पर ज्यामितीय अलंकरण के साथ प्राकृतिक अलंकरण भी उपलब्ध हुए हैं।
(7) रंगमहल-हनुमानगढ़जिले में घग्घर नदी घाटी में स्थित है। जहां प्रस्तर-युगीन प्रस्तर धातु युग की संस्कृति की जानकारी मिलती है। कुषाणकाल गुप्तकाल के अवशेष भी मिले हैं।
(8) बालाथल-उदयपुरमेंताम्र पाषाणकालीन सभ्यता का केन्द्र जहां के लोग पशुपालन, कृषि और शिकार तीनों कार्य करते थे। पाषाण निर्मित ग्यारह कमरों का विशाल भवन, कपड़े के अवशेष ताम्र उपकरण मिले हैं।
(9) नोह-भरतपुरजिलेमें रूपारेल नदी के तट पर अवस्थित आर्य, ताम्रयुगीन, महाभारत, कुषाण एवं मौर्ययुगीन सभ्यता के अवशेष मिले हैं। यह स्थल चित्रित मृदभाण्डों वाली सभ्यता का प्रतिनिधित्व करता है। कुषाणकाल की पक्षी चित्रित ईंट मिली है। ‘पाप हत्तस’ अंकन वाली मुद्रा मिली है।
(10) विराटनगर-आर्य,महाभारत,कुषाण, मौर्य सभ्यता के अवशेष मिले हैं। बीजक पहाड़ी से अशोक कालीन मंदिर, स्तूप एवं मठ, शैल चित्र भी मिले हैं।
(11) रैढ़-टोंकमें स्थित इस स्थल से ईसा की आरम्भिक सदियों के अवशेष मिले हैं। लौह सामग्री की प्रचुरता से इसे प्राचीन भारत का टाटानगर भी कहते हैं।

general knowledge rajasthan 2018 in hindi pdf Rajasthan GK Important Question In Hindi

1.‌व्यास रावी नदियों के बीच के दोआब का नाम क्या है?
(क)बारी दोआब
(ख) रचना दोआब
(ग) चाज दोआब
(घ) सिंध सागर दोआब
2.विश्व का पहला अंतरिक्ष यात्री यूरी गागरिन कब अंतरिक्ष में गया था?
(क)12 अप्रैल 1961
(ख) 12 अप्रैल 1962
(ग) 12 अप्रैल 1963
(घ) 12 अप्रैल 1964
3.जयपुर जिले के किस गांव में गधों का मेला लगता है?
(क)चाकसू
(ख) गोनेर
(ग) लूणियावास
(घ) बस्सी
4.भीनमाल (जालोर) का प्रसिद्ध वराह श्याम के मंदिर में वराह की प्रतिमा किस पत्थर से बनी है?
(क)सफेद संगमरमर
(ख) ब्लैक ग्रेनाइट
(ग) कोटा स्टोन
(घ) पीले पत्थर
5.निम्न में से किस शब्द का अर्थ ‘गर्व’ नहीं है?
(क)अभियान
(ख) अहंकार
(ग) शरण
(घ) दंभ
6.देश में शहरी जनसंख्या की दृष्टि से तीसरे स्थान (45.23 फीसदी) पर कौनसा राज्य है?
(क)गुजरात
(ख) उत्तर प्रदेश
(ग) महाराष्ट्र
(घ) कर्नाटक
7.इनमें से कौनसा गेंदबाज भारत का नहीं है?
(क)जगावल श्रीनाथ
(ख) शोएब अख्तर
(ग) रविचंद्रन अश्विन
(घ) मदन लाल
8.जोधपुर जिले के मेजर शैतान सिंह को 1962 में अतुलनीय वीरता दिखाने पर मरणोपरांत कौनसा सम्मान दिया गया था?
(क)महावीर चक्र
(ख) शौर्य चक्र
(ग) वीर चक्र
(घ) परमवीर चक्र
9.राजस्थान में गैप सागर (भोपाल सागर) कहां है?
(क)डूंगरपुर
(ख) जयपुर
(ग) उदयपुर
(घ) अजमेर
10.धौलपुर शहर की स्थापना किस राजपूत राजा ने की थी?
(क)माल देव
(ख) कीरत सिंह
(ग) धवल देव
(घ) सुलेह खां

उत्तर : 5 (ग) 9 (क) 10 (ग)  4 (घ) 8 (घ) 3 (ग) 7 (ख) 2 (क) 6 (ग) 1 (क)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *