Geography Gk In Hindi 2018, Indian Geography in Hindi भारत का भूगोल

By | December 1, 2017

Geography Gk In Hindi 2018, Indian Geography in Hindi भारत का भूगोल UPSC, SSC, Bank PO, IBPS, Patwar Exam Geography GK in Hindi Update today सामान्य ज्ञान

Read important geography gk in hindi Geography Gk In Hindi 2018, Indian Geography in Hindi भारत का भूगोल

geography-gk-in-hindi-2017-indian-geography-in-hindi-%e0%a4%ad%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%a4-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%ad%e0%a5%82%e0%a4%97%e0%a5%8b%e0%a4%b2

General Knowledge gk in hindi , , ,

Geography Gk In Hindi 2017, Indian Geography in Hindi भारत का भूगोल

Geography Gk In Hindi 2017, Indian Geography in Hindi भारत का भूगोल

प्रश्न 1. ‘गोदावरी’ की सहायक नदियों के नाम बताइए।
उत्तर इन्द्रावती,प्राणहिता, पूर्णा, दुधना, मंजरा आदि गोदावरी की सहायक नदियां हैं।

प्रश्न2. खादर
उत्तर नवीनजलोढ़ के जमाव से निर्मित अपेक्षाकृत निम्न प्रदेश जो उपजाऊ बना रहता है।

प्रश्न3. लू
उत्तर मई-जूनमाह में उत्तर-पश्चिम भारत में चलने वाली शुष्क धूलभरी स्थानीय गर्म हवा।

प्रश्न4. संक्रान्ति
उत्तर सूर्यके उत्तरायण तथा दक्षिणायन की सीमा संक्रान्ति कहलाती है। कर्क संक्रान्ति में सूर्य उत्तरी और मकर संक्रान्ति में दक्षिणी गोलार्द्ध में होता है।

प्रश्न5. ब्लोसम शावर
उत्तर केरलतथा कर्नाटक के इलाके में पड़ने वाली मानसून पूर्व बौछारें, जो काॅफी की फसल के लिए उपयोगी होती हैं।

प्रश्न 6. जैव विविधता हाॅट-स्पाट से आप क्या समझते हैं? इनकी प्रमुख विशेषताएं बताइए।
उत्तर ऐसेभौगोलिक क्षेत्र जहां पाए जाने वाले जीवों में उच्चस्तरीय विविधता एवं विलुप्तीकरण का खतरा दोनों होता है, जैव विविधता हाॅट स्पाट कहलाता है।
विशेषताएं- संबंधित क्षेत्र में देशज संवहनीय पौधों की निम्नतम 1500 प्रजाति पाई जाती हों/विश्व की कुल देशज संवहनीय पौधों का 0.5% वहां उपस्थित हो और संबंधित क्षेत्र के जीवों के प्राकृतिक वासस्थल का 70% खत्म हो गया हो।၁

प्रश्न7. पशु संसाधन के महत्व की विवेचना कीजिए।
उत्तर सहायकरोजगार एवं वैकल्पिक अर्थव्यवस्था, प्रोटीन उपलब्धता में सहायक, दुग्ध उपलब्धता की दृष्टि से सहायक, जैविक खाद, गोबर गैस, ईंधन आदि का पर्याप्त स्रोत, मांस, चमड़ा ऊन उद्योग में कच्चे माल के रूप में अण्डा एवं दुग्ध से संबंधित खाद्य पदार्थों के लिए उपयोगी।

प्रश्न8. भारत में हरित क्रांति से होने वाले प्रभावों का समालोचनात्मक विवेचन कीजिए।
उत्तर भारतमें हरित क्रांति के फलस्वरूप जहां फसलों के उत्पादन, प्रतिव्यक्ति आय, रोजगार आदि में वृद्धि, गांव की ओर पूंजी प्रवाह, संबंधित क्षेत्रों में शिक्षा, स्वास्थ्य संचार सेवाओं का प्रसार आदि के कारण जीवन स्तर में वृद्धि हुई तो वहीं दूसरी ओर वर्ग-संघर्ष की स्थिति, पूंजीवादी कृषि एवं विषमता को बढ़ावा मिला, मृदा की क्षारीयता/लवणीयता में वृद्धि, भूमिगत जल स्तर में गिरावट आदि समस्याएं भी उत्पन्न हुईं।

प्रश्न9 प्रवाली भित्तियों के प्रकार बताते हए भारत में प्रवाल के प्रमुख क्षेत्रों का वर्णन करें।
उत्तर प्रवालभित्तियों के मुख्यतः तीन प्रकार होते हैं- तटीय प्रवाल भित्ति, अवरोधक भित्ति एवं एटाॅल।
भारत में प्रवाल भित्तियों का विकास मुख्यतः कच्छ की खाड़ी, मन्नार की खाड़ी, लक्षयद्वीप तथा अण्डमान एवं निकोबार द्वीप समूह के इर्द-गिर्द हुआ है। इनके अलावा ये महाराष्ट्र के मालवाण में भी अल्प मात्रा में पाए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *